918815105984

Terms and conditions for farmers

The use of this website is subject to the following terms of use:
  • The content of the pages of this website is for your general information and use only. It is subject to change without notice.
  • Neither we nor any third parties provide any warranty or guarantee as to the accuracy, timeliness, performance, completeness or suitability of the information and materials found or offered on this website for any particular purpose. You acknowledge that such information and materials may contain inaccuracies or errors and we expressly exclude liability for any such inaccuracies or errors to the fullest extent permitted by law.
  • Your use of any information or materials on this website is entirely at your own risk, for which we shall not be liable. It shall be your own responsibility to ensure that any products, services or information available through this website meet your specific requirements.
  • This website contains material which is owned by or licensed to us. This material includes, but is not limited to, the design, layout, look, appearance, and graphics. Reproduction is prohibited other than in accordance with the copyright notice, which forms part of these terms and conditions.
  • All trademarks reproduced in this website which is not the property of, or licensed to, the operator is acknowledged on the website.
  • Unauthorized use of this website may give rise to a claim for damages and/or be a criminal offense.
  • From time to time this website may also include links to other websites. These links are provided for your convenience to provide further information. They do not signify that we endorse the website(s). We have no responsibility for the content of the linked website(s).
  • You may not create a link to this website from another website or document without rama crop science Pvt Ltd's prior written consent.
  • Your use of this website and any dispute arising out of such use of the website is subject to the laws of India or other regulatory authority.
Crop Detail - Pigeon pea
Pigeon pea

Pigeon Pea

  • Scientific name :- Cajanus Cajan
  • Family :- Legumes
  • Origin :- A crop of India Introduced to Africa
  • Chromosome no. :- 2n=22

Importance :-

Kharif is the main crop. It is considered to be a good crop for low irrigation and barani areas. Arhar can be grown as a mixed crop along with any other crop. Additional benefits can be availed. Being a pulp crop, it also increases the fertility of soil. Carbohydrates, calcium, iron and minerals are found in sufficient quantity in it.

Soil Type :-

Light loam or medium heavy rich spur land with proper drainage is suitable for sowing pigeonpea.

pH value of 7.0-8.5

Climate Condition are :-

  • Highly drought resistant
  • Moist & humid conditions for vegetative period
  • Drier condition for flowering and pod setting
  • Temp of 18 – 27°C is desirable
  • However there are vars to tolerate 35°C

Varieties :-

  • Types of pigeonpea (short duration)

Varieties of pigeon pea

Yield q / o

Harvest period

Features

Upas.120 (1976)

10-12

130-140

Unlimited growth, red grain, short duration ripening species

ICPL-87 (Pragati, 1986)

10-12

125-135

cooks in a short period of limited growth. The seed is dark red to medium size.

Trombay Jawahar Tuvar-501 (2008)

19-23

145-150

is an unlimited-growth, red-grain, short-term ripening, anti-bacterial species.

 

 

S.No

Variety Name

Specification

1

Chhattisgarh Arhar-1165-17519-21

Partial antidote for Wilt disease

2

Chhattisgarh Arhar-2170-18019-21

Wilt disease preventive, Phytophthora stem Partial restraints and pads for embers-Less damage by borer complex

3

Rajeevlochan180-19018-20

Drought prevention, sterility and phytophthora blight prevention

4

TJT 501135-18315-18

phlegmatic tolerant

5

JKM-189170-19018-20

anti-infertility

6

TT-401138-15614-16

Phlegmatic tolerant

7

Vipula145-16014-16

Erectile Dysfunction and Infertility Tolerant

8

AKT 8811135-14515-18

Wilt and phlegmatic tolerant

9
VLA-1135-14512-15
quick ripening
10
JKM-7170-18018-20
Wilt and Infertility Tolerant
11
BSMR-736180-19018-20
Wilt and Infertility Tolerant
12  
ASHA (ICPL-87119)180-19018-20
anti-inflammation and sterility, phlegmatic tolerant
13
GT 100135-14515-18
Infertility and Erectile Dysfunction
14
jaagrti 135-15015-18
anti-infertility
15
Pragati (ICPL.87)135-15015-17
Wilt tolerant
16
UPAS-120130-15011-15
phlegmatic tolerant
17
BDN-2150-16010-12
Wilt tolerant
18
BDN-711150-16015-18
Wilt anti-infertility
19
BSMR-853165-17016-18
Infertility and Erectile Dysfunction
20
Lakshmi170-18518-20
anti-infertility
21
Phule T, 0012 (Rajeshwari) 150-160 18-20
Moderate resistant to thrush and infertility

Variety (medium term) land selection and preparation : -

Light loam or medium heavy rich spur land with proper drainage is suitable for sowing pigeonpea. The field should be prepared after 2 or 3 plows. The field should be free from weeds and proper arrangements for drainage should be made in it.

Middle to heavy black land with proper drainage for pigeonpea crop whose Ph. The value of 7.0-8.5 is good. Flatten the field by plowing the field two or three times by plowing the field with a native plow or tractor. Make proper drainage arrangements.

Varieties of Arhar (medium term)

Varieties of pigeon pea

Yield q / o

Harvest period

Features

JKM-7 (1996) 2022

2022 in non-irrigated

170-190

Unlimited growth in irrigated, brownish-red grains is of medium size. It is an insurgent caste.

JKM 189 (2006)

20-22 in non-irrigated 30-32 in semi-irrigated

160-170

semi-irrigated, green pods with black stripes, reddish brown large grains, 100 grains weighing 10.1 grams and excreted, infertility Tolerant to scorching, anti-nephrotoxic and pod borer, also suitable for late sowing

ICP-8863 (Maruti, 1986)

20-22

150-160

is a medium-sized brownish-red granule with unlimited growth. It is an insurgent caste. Infertility disease is more effective in this caste.

Jawahar Arhar-4 (1990)

18-20

180-200

Unlimited growth, medium sized red granule, phytopathora antimicrobial

ICPL-87119 (Aasha 1993)

18–20

160–190

is an asymptomatic, medium-term anti-multidrug (sprouted infertility) race. There is a red grain of medium size.

BSMR-853 (Vaishali, 2001)

18-20

170-190

Unlimited growth, medium duration white rash, anti-multidrug (provocation and infertility)

BSMR-736 (1999)

18-20

170-190

is an unlimited growth, medium-sized red granule, medium-term, yoked and resistant to infertility.

VIJAYA ICPH-2671

22-25

164-184

Unlimited growth, flowers yellow with thick red stripes, legumes light purple color and medium duration of dark red rash, anti-multi-disease (provocation and infertility) )

Seed Rate and Spacing :-

  • Early Maturing Var. - 20 - 25 k g/ha (Row to Row - 45 - 60 cm & Plant to Plant - 10 - 15 cm)
  • Medium/Late Maturing Var. - 15 - 20 k g/ha (Row to Row - 60 - 75 & Plant to Plant - 15 - 20 cm)

Seed Trearment :- 

  • Bavistin
  • Captan
  • Thiram
  • Carbendazim
  • Mancozeb

Dose- 2-3 gm per kg seed

Benefits :-

  1. Protects germinating seeds and seedlings against soil and seed borne pathogens/insects.
  2. Enhance seed germination.

Sowing time :- Early Maturing varieties - First fortnight of June; Medium & Late Maturing Varieties - Second fortnight of June. Line sowing by seed drill or desi plough or by dibbling on the ridge and beds, both are recommended as per the area.

Irrigation :- being a deep rooted crop, it can to lerate drought. But in case of prolonged drought there is need of three irrigation.

  • 1st at branching stage (30 DAS)
  • 2nd one in flowering stage (70 DAS) and
  • 3rd at the time of podding stage (110 DAS).

Inter-crop: -

The inter-cropping system will yield full yields of the main crop and additional yields from the inter-cropping. If there is an outbreak of insects in the main crop or adverse weather conditions at any point of time, there will be a definite benefit from a rough crop. Simultaneously, outbreaks of insects and diseases are controlled in the inter-cropping system. The following inter-cropping system is suitable for Madhya Pradesh.

1. Tur peanuts or soybeans in a ratio of 2: 4 queues (queues distance 30 cm)

2 . Urad or moong in a ratio of 1: 2 queues (queue distance 30 cm)

3. Improved species JKM189 or Trombe Jawahar Tuvar-501 have been found suitable in intercrop with soybean or moong or groundnut.

Time and method of sowing: -

Tax should be done as soon as the pigeonpea ari starts raining. Generally sow from last week of June to first week of July. The distance between the queues is 60 cm for quick-cooking castes. And 70 to 90 cm for the medium and late ripening species. should keep. Plant spacing of 15-20 cm for short duration castes. And 25–30 cm for the medium and late ripening species. Keep it.

Weed prevention

Weed control Pendimethalin 0.75 to 1.00 kg of active ingredients per hectare after sowing and before germination, weed control. After weeding, it is beneficial to do a weeding on the condition of about 30 to 40 days. But if there has been a serious problem of weeds in the field in previous years, then at the time of last plowing, dissolve 1 kg of fluorchloren 50 percent in the field in 800 to 1000 liters of water or 2 to 2.5 kg of Eleachlor 50 percent EC (active ingredients ) Effective control over weeds can be found by spraying the quantity before seed germination.

Manures and Fertilizers :-

he doses of fertilizers should be determined based on the results of soil test. All the fertilizers are drilled in furrows at a depth of 5 cm. and at the side of 5 cm. from seed. Apply 25 - 30 kg N, 40 - 50 k g P 2 O 5 , 30 kg K 2 O per ha area as Basal dose at the time of sowing.

Secondary and Micro Nutrients

  • Sulphur : In medium black soils and sandy loam soils apply 20 kg S ha-1 (equivalent to 154 kg gypsum/phospho-gypsum or 22 kg bentonite sulphur) as basal to each crop. If S deficiency is diagnosed red sandy loam soils, apply 40 kg S ha-1 (equivalent to 300 kg gypsum/phospho - gypsum/or 44 kg bentonite sulphur) per hectare. This quantity is sufficient for one crop cycle.
  • Zinc : In sandy soil, apply 3 kg Zn ha-1 (15 kg zinc sulphate hepta hydrate/ 9 kg zinc sulphate mono hydrate) as basal. If Zinc deficiency found in the standing crop can then spraying 5 kg Zinc sulphate + Lime 2.5 k g dissolved in 800-1000 liter water per hectare.
  • Iron : In light textured soils, foliar application of 0.5% FeSO4 at 60, 90 and 120 DAS is recommended.

अरहर (Arhar)

  • वैज्ञानिक नाम :- कजानस कजान
  • परिवार :- फैबेसी
  • उत्पत्ति :-भारत की एक फसल अफ्रीका में पेश किया गया
  • गुणसूत्र संख्या 2एन = 22

महत्व :-

खरीफ की मुख्य फसल है| यह कम सिंचाई और बरानी क्षेत्रों के लिए उत्तम फसल मानी जाती है|अरहर  (Arhar) को मिश्रित फसल के रूप में अन्य किसी फसल के साथ उगाकर अतरिक्त लाभ लिया जा सकता है| दलहनी फसल होने के कारण यह मिटटी की उर्वरा शक्ति को भी बढ़ाती  है| इसमें कार्बोहाइड्रेट, कैल्सियम, लोहा और खनिज पदार्थ पर्याप्त मात्रा में पाए जाते है|

मिटटी के प्रकार :-
अरहर की बुवाई के लिए उचित जल निकासी वाली हल्की दोमट या मध्यम भारी समृद्ध स्पर भूमि उपयुक्त होती है।
पीएच मान 7.0-8.5

जलवायु के प्रकार:-
अत्यधिक सूखा प्रतिरोधी
वानस्पतिक अवधि के लिए नम और आर्द्र स्थिति
फूल आने और फली जमने के लिए सुखाने की स्थिति
18 - 27 डिग्री सेल्सियस का तापमान वांछनीय है
हालांकि 35°C . को सहन करने के लिए युद्ध होते हैं

अरहर की किस्मे (कम अवधि) 

अरहर की किस्में / विकसित  वर्ष   उपज क्वि./हे फसल अवधि विशेषताऐं
उपास.120 (1976)  10-12 130-140  असीमित वृद्धि वाली, लाल दाने की , कम अवधि में पकने वाली जाति
आई.सी.पी.एल.-87 (प्रगति,1986) 10-12 125-135  सीमित वृद्धि की कम अवधि में पकती है। बीज गहरा लाल मध्यम आकार का होता है।
ट्राम्बे जवाहर तुवर-501 (2008)  19-23 145-150  असीमित वृद्धि वाली, लाल दाने की , कम अवधि में पकने वाली,उकटा रोगरोधी जाति है।

 

अरहर की किस्मे (मध्यम अवधि)   भूमि का चुनाव एवं तैयारी :-

हल्की दोमट अथवा मध्यम भारी प्रचुर स्फुर वाली भूमि, जिसमें समुचित पानी निकासी हो, अरहर बोने के लिये उपयुक्त है। खेत को 2 या 3 बाद हल या बखर चला कर तैयार करना चाहिये। खेत खरपतवार से मुक्त हो तथा उसमें जल निकासी की उचित व्यवस्था की जावे।
अरहर की फसल के लिए समुचित जल निकासी वाली मध्य से भारी काली भूमि जिसका पी.एच.  मान 7.0-8.5 का हो उत्तम है। देशी हल या ट्रैक्टर  से दो-तीन बार खेत की गहरी जुताई व पाटा चलाकर खेत को समतल करें। जल निकासी की समुचित व्यवस्था करें।

अरहर की किस्मे ( मध्यम अवधि)

अरहर की किस्में / विकसित  वर्ष  उपज क्वि./हे फसल   अवधि विशेषताऐं
जे.के.एम.-7 (1996) असिंचित में 2022 170-190  असीमित वृद्धि वाली, भूरा-लाल दाना मध्यम आकार का होता है। यह उकटा रोधक जाति है।
जे.के.एम.189(2006)  असिंचित में 20-22 अर्धसिंचित में 30-32  160-170 असीमित वृद्धि वाली, हरी फल्ली काली धारियों के साथए लाल.भूरा बड़ा दाना,100 दानों का वजन 10.1 ग्राम व उकटा, बांझपन व झुलसा रोगरोधी एवं सूत्रकृमी रोधी एवं फली छेदक हेतु सहनषील, देर से बोनी में भी उपयुक्त
आई.सी.पी.-8863 (मारुती, 1986) 20-22 150-160 असीमित वृद्धि वाली, मध्यम आकार का भूरा लाल दाना होता है। यह उकटा रोधक जाति है। इस जाति में बांझपन रोग का प्रभाव ज्यादा होता है।
जवाहर अरहर-4 (1990)  18-20 180-200 असीमित वृद्धि वाली, मध्यम आकार का लाल दाना, फायटोपथोरा रोगरोधी
आई.सी.पी.एल.-87119 (आषा 1993) 18-20 160-190 असीमित वद्धि वाली, मध्यम अवधि वाली बहुरोग रोधी (उकटा बांझपन रोग) जाति है। मध्यम आकार का लाल दाना होता है।

बी.एस.एम.आर.-853 (वैषाली, 2001)

18-20 170-190 असीमित वृद्धि वाली, सफेद दाने की मध्यम अवधि वाली, बहुरोग रोधी (उकटा व बांझपन रोग)
बी.एस.एम.आर.-736 (1999) 18.20 170-190 असीमित वद्धि वाली, मध्यम आकार का लाल दाना, मध्यम अवधि वाली, उकटा एवं बांझरोग रोधक है।
विजया आई.सी.पी.एच.-2671 22-25 164-184  असीमित वृद्धि वाली, फूल पीले रंग का घनी लाल धारियो वाली, फलियां हल्के बैंगनी रंग एवं गहरा लाल दाने की मध्यम अवधि वाली, बहुरोग रोधी (उकटा व बांझपन रोग)

 

 

क्र .

किस्मे 

विशेषता 

1

छत्तीसगढ़ अरहर-1165-17519-21

उकठा रोग हेतु आंशिक निरोधक

2        

छत्तीसगढ़ अरहर-2170-18019-21

उकठा रोग निरेधक, फाइटोप्थोरा तना अंगमारी हेतु आंशिक निरोधक तथा पाड- बोरर काम्पलेक्स द्वारा कम क्षति

3

राजीवलोचन180-19018-20

सूखा निरोधक, बाँझपन तथा फाइटोप्थोरा ब्लाइट निरोधक

4

टी.जे.टी. 501135-18315-18

फल्लीभेदक सहनशील

5

जे.के.एम.-189170-19018-20

उकठा व बाँझपन निरोधक

6

टी.टी.-401138-15614-16

फल्लीभेदक सहनशील

7

विपुला145-16014-16

उकठा निरोधक एवं बांझपन सहनशील

8

ए.के.टी. 8811135-14515-18

उकठा व फल्लीभेदक सहनशील

9

व्ही.एल.ए.-1135-14512-15

शीघ्र पकने वाली

10

जे.के.एम.-7170-18018-20

उकठा एवं बांझपन सहनशील

11

बी.एस.एम.आर.-736180-19018-20

उकठा व बाँझपन निरोधक

12

आशा (आई.सी.पी.एल.-87119)180-19018-20

उकठा व बाँझपन रोग निरोधक, फल्लीभेदक सहनशील

13

जी.टी. 100135-14515-18

बांझपन एवं उकठा निरोधक

14

जागृति135-15015-18

बांझपन निरोधक

15

प्रगति (आई.सी.पी.एल.87)135-15015-17

उकठा सहनशील

16

यू.पी.ए.एस.-120130-15011-15

फल्लीभेदक सहनशील

17

बी.डी.एन.-2150-16010-12

उकठा सहनशील

18

बी.डी.एन.-711150-16015-18

उकठा एवं बांझपन निरोधक

19

बी.एस.एम.आर.-853165-17016-18

बांझपन एवं उकठा निरोधक

21

लक्ष्मी170-18518-20

बांझपन निरोधक

21

फूले टी, 0012 (राजेश्वरी)150160          18-20

उकठा एवं बांझपन रोग के लिए मध्यम प्रतिरोधी

बीज दर और दुरी :-
जल्दी परिपक्व होने वाला वार। - 20 - 25 किलो ग्राम / हेक्टेयर (पंक्ति से पंक्ति - 45 - 60 सेमी और पौधे से पौधे - 10 - 15 सेमी)
मध्यम/देर से परिपक्व होने वाला वार। - 15 - 20 किलो ग्राम / हेक्टेयर (पंक्ति से पंक्ति - 60 - 75 और पौधे से पौधे - 15 - 20 सेमी)
बीज उपचार :-
बाविस्टिन
कैप्टन 
थीरम 
कार्बेन्डाजिम
मैंकोजेब 
मात्रा- 2-3 ग्राम प्रति किलो बीज


लाभ :-

  • अंकुरित बीजों और पौध को मिट्टी और बीज जनित रोगजनकों/कीड़ों से बचाता है।
  • बीज अंकुरण बढ़ाएँ

बुआई के समय :-
जल्दी पकने वाली किस्में - जून का पहला पखवाड़ा; मध्यम और देर से पकने वाली किस्में - जून का दूसरा पखवाड़ा। क्षेत्र के अनुसार सीड ड्रिल या देसी हल या रिज और बेड पर डिबब्लिंग द्वारा लाइन बुवाई की सिफारिश की जाती है।

सिचाई :-गहरी जड़ वाली फसल होने के कारण यह सूखे को कम कर सकती है। लेकिन लंबे समय तक सूखे की स्थिति में तीन सिंचाई की आवश्यकता होती है।

  • शाखाओं में बंटने की अवस्था में प्रथम (30 DAS)

  • दूसरा फूल आने की अवस्था में (70 DAS) और

  • पोडिंग चरण के समय तीसरा (110 डीएएस)

 अंतरवर्तीय फसल:-

अंतरवर्तीय फसल पद्धति से मुख्य फसल की पूर्ण पैदावार एंव अंतरवर्तीय फसल से अतिरिक्त पैदावार प्राप्त होगी । मुख्य फसल में कीडों का प्रकोप होने पर या किसी समय में मौसम की प्रतिकूलता होने पर किसी न किसी फसल से सुनिश्चित लाभ होगा। साथ-साथ अंतरवर्तीय फसल पद्धति में कीडों और रोगों का प्रकोप नियंत्रित रहता है। निम्न अंतरवर्तीय फसल पद्धति मध्य प्रदेश  के लिए उपयुक्त है।
1.  अरहर मूंगफली या सोयाबीन 2:4 कतारों कें अनुपात में (कतारों दूरी 30 से.मी.)
2 . उडद या मूंग 1:2 कतारों कें अनुपात में (कतारों दूरी 30  से.मी.)
3.  उन्नत जाति जे.के.एम.189 या ट्राम्बे जवाहर तुवर-501 को सोयाबीन या मूंग या मूंगफली के साथ अंतरवर्तीय फसल में उपयुक्त पायी गई है।

बोनी का समय व तरीका

अरहर की बोनी वर्षा प्रारम्भ होने के साथ ही कर देना चाहिए। सामान्यतः जून के अंतिम सप्ताह से लेकर जुलाई के प्रथम सप्ताह तक बोनी करें। कतारों के बीच की दूरी शीघ्र पकने वाली जातियों के लिए 60 से.मी. व मध्यम तथा देर से पकने वाली जातियों के लिए 70 से 90 से.मी. रखना चाहिए। कम अवधि की जातियों के लिए पौध अंतराल 15-20 से.मी. एवं मध्यम तथा देर से पकने वाली जातियों के लिए 25-30 से.मी. रखें।
निंदाई-गुडाई-

खरपतवार नियंत्रण के लिए 20-25 दिन में पहली निंदाई तथा फूल आने के पूर्व दूसरी निंदाई करें। 2-3 कोल्पा चलाने से नीदाओं पर अच्छा नियंत्रण रहता है व मिट्टी में वायु संचार बना रहता है । नींदानाषक पेन्डीमेथीलिन 1.25 कि.ग्रा. सक्रिय तत्व / हेक्टर बोनी के बाद प्रयोग करने से नींदा नियंत्रण होता है । नींदानाषक प्रयोग के बाद एक नींदाई लगभग 30 से 40 दिन की अवस्था पर करना लाभदायक होता है

खाद और उर्वरक :-

उर्वरकों की मात्रा मृदा परीक्षण के परिणामों के आधार पर निर्धारित की जानी चाहिए। सभी उर्वरकों को 5 सेमी की गहराई पर खांचे में ड्रिल किया जाता है। और 5 सेमी की तरफ। बीज से। बुवाई के समय बेसल खुराक के रूप में 25 - 30 किग्रा एन, 40 - 50 किग्रा पी 2 5, 30 किग्रा के 2 प्रति हेक्टेयर क्षेत्र में डालें।

माध्यमिक और सूक्ष्म पोषक तत्व
  • सल्फर:-मध्यम काली मिट्टी और रेतीली दोमट मिट्टी में प्रत्येक फसल के लिए आधार के रूप में 20 किलो एस हेक्टेयर-1 (154 किलो जिप्सम/फॉस्फो-जिप्सम या 22 किलो बेंटोनाइट सल्फर के बराबर) डालें। यदि एस की कमी का निदान लाल रेतीली दोमट मिट्टी में किया जाता है, तो प्रति हेक्टेयर 40 किग्रा एस हेक्टेयर-1 (300 किग्रा जिप्सम/फॉस्फो-जिप्सम/या 44 किग्रा बेंटोनाइट सल्फर के बराबर) डालें। यह मात्रा एक फसल चक्र के लिए पर्याप्त है

  • जिंक:-रेतीली मिट्टी में 3 किग्रा Zn ha-1 (15 किग्रा जिंक सल्फेट हेप्टा हाइड्रेट/9 किग्रा जिंक सल्फेट मोनो हाइड्रेट) बेसल के रूप में लगाएं। यदि खड़ी फसल में जिंक की कमी पाई जाती है तो 5 किलो जिंक सल्फेट + चूना 2.5 किलो ग्राम 800-1000 लीटर पानी में घोलकर प्रति हेक्टेयर छिड़काव करें|

  • लोहा:- हल्की बनावट वाली मिट्टी में, 60, 90 और 120 DAS पर 0.5% FeSO4 के पत्तेदार अनुप्रयोग की सिफारिश की जाती है।


My Cart (0 product)
khetimitra
No products in your cart