918815105984

Terms and conditions for farmers

The use of this website is subject to the following terms of use:
  • The content of the pages of this website is for your general information and use only. It is subject to change without notice.
  • Neither we nor any third parties provide any warranty or guarantee as to the accuracy, timeliness, performance, completeness or suitability of the information and materials found or offered on this website for any particular purpose. You acknowledge that such information and materials may contain inaccuracies or errors and we expressly exclude liability for any such inaccuracies or errors to the fullest extent permitted by law.
  • Your use of any information or materials on this website is entirely at your own risk, for which we shall not be liable. It shall be your own responsibility to ensure that any products, services or information available through this website meet your specific requirements.
  • This website contains material which is owned by or licensed to us. This material includes, but is not limited to, the design, layout, look, appearance, and graphics. Reproduction is prohibited other than in accordance with the copyright notice, which forms part of these terms and conditions.
  • All trademarks reproduced in this website which is not the property of, or licensed to, the operator is acknowledged on the website.
  • Unauthorized use of this website may give rise to a claim for damages and/or be a criminal offense.
  • From time to time this website may also include links to other websites. These links are provided for your convenience to provide further information. They do not signify that we endorse the website(s). We have no responsibility for the content of the linked website(s).
  • You may not create a link to this website from another website or document without rama crop science Pvt Ltd's prior written consent.
  • Your use of this website and any dispute arising out of such use of the website is subject to the laws of India or other regulatory authority.
Crop Detail - Potato
Potato

Potato

  • Scintific Name - Solanum tuberosum L.
  • Family - Solanaceae
  • Origin - Peru
  • Chromosome no.-   2n=48

Importance

Potatoes are thought to originate in South America, but potatoes in India first came from Europe in the seventeenth century. Potato is fourth in area after rice, wheat, sugarcane. Potato is one such crop which gives more production per unit area than other crops (wheat, paddy and peanuts) and income per hectare is also higher. Potatoes mainly contain 80.82 percent water and 14 percent starch, 2 percent sugar, 2 percent protein and 1 percent mineral salts. There is also 0.1 percent fat and a small amount of vitamins.

Climate

 Potato is a crop of temperate climate. In Uttar Pradesh, it is cultivated during the Rabi season under conditions of subtropical climate. Generally for good farming, the daytime temperature should be 25.30 degree Celsius and the night temperature is 4.15 degree Celsius during the harvest period. Around 18.20 ° C temperature is best when growing tubers in the crop. The vegetative growth of the crop is good if there is some temperature before the formation of the tuber, but at the time of formation of the tuber, the formation of the tuber stops when there is more temperature. At temperatures exceeding about 30 degrees Celsius, the growth of potato in the potato crop stops completely.

Land and Land Management

Potato crop of different types of land, whose Ph. Values ​​between 6 and 8 can be grown, but the Balui loam and the loam are suitable land for proper drainage. 3.4 Plowing discs with harrow or cultivator. Lumps are broken after each plowing and moisture is preserved. Presently, the preparation of the field with the rotavator also makes it quick and good. For good crop of potato, sap should be done before sowing.

Sowing time

Potato is sensitive to temperature. 25 to 30 degree centigrade day temperature is suitable for vegetative growth of potato and 15-20 degree centigrade growth of potato tubers. Generally, sowing of early crop should be done from mid-September to first week of October, sowing of main crop should be done after mid-October.

 

 

Potato varieties

Production time

Production per hectare

Other information

Kufri Chandra Mukhi

prepared in 80 - 90 days

200 - 250 Quintals

 

Kufri Alankar

prepared in 70 days

200 - 250 quintals

 

Kufri Navtal G2524

ready in 75 - 80 days

200 - 250 quintal

 

Kufri Bahar 3792 E

90 -110 days ready

200 - 250 quintal

in summer 100 to 135 days

Kufri Jyoti

ready 80 - 120 days

150 - 250 qtl.

 

Kufri Sheeth Maan

100 -130 days ready

250 quintals

 

Kufri Deva

prepared in 120 -125 days

300 - 400 quintals

 

Kufri Sinduri

prepared in 120 - 140 days

300 - 400 quintals

 

Kufri badshah

prepared in 100 -120 days

250 - 275 quintals

 

Kufri Lavakar

prepared in 100 - 120 days

300 - 400 quintal

 

Kufri laalima

prepared in 90 - 100 days.

300 quintals

It has medium resistance to early scorching and the tuber is round and peeled pink.

Kufri Swarna

ready in 110 days

100 - 300 quintals

 

 

Hybrid varieties of potato seed information

Potato varieties

Production time

Production per hectare

Other information

Kufri Jawahar JH 222

ready in 90 - 110 days

250 - 300 quintal

 

JF 5106

ready in 75 days

23 -28 ton

To grow in the plains of North India

E 4,486

135 days crop

250 - 300 quintal

useful for growing in Haryana, Uttar Pradesh, Bihar, West Bengal, Gujarat and Madhya Pradesh

Kufri Ashok P 376 J

75 days crop

23 - 28 tons

 

Kufri Equilibrium J 5857 I

75 days crop

23 - 28 tons

 

JEX-166C

ready in 90 days

30 tons

 

 

Types of potato seeds and right methods of selection

Farmer brothers should choose which type of potato seeds to plant. This is a major topic because the size of potato seed also affects the production of the crop. If you choose the seeds of larger size, then the yield will be higher, but due to this the cost of the seed is higher and if the price of the seed is high, we do not know enough profit. If you choose the same size seeds, the cost incurred in the seed will be less but due to this, there is a risk of germinating potatoes. It is generally seen that crops of lesser size seeds are more susceptible to diseases. 

Potato cultivation method

1. 15.20 cm from the ground. M Make high ridges with a distance of 45.60 cm. Should be m. After that on either side or between 15.20. M At a distance and potatoes from 7.8. M Apply depth with the help of a khurpi.

2. By making shallow drains in potato field, the depth of which is 5 - 7 cm. M Ho, 20.20 in them. M Put potato seeds on the floor and run the plow between two lines and press the potatoes or without making a drainage, the potatoes are 5 to 7. M Sow deep and make meds.

3. Sowing of potatoes in hilly areas 4 m wide in small beds, which range from 45 - 60 cm. M Should be made. And the slope should not be more than 8 -10%. Potato seeds should be pressed into the soil in the lines, and with the help of shovel, they should be planted in soil about 3- 4 inches or 8 - 10 cm.

4. Keeping the distance of potato plants short, the plants do not get enough space for light, water and nutrients, due to which small size potatoes are produced. Keeping more distance reduces the number of plants, which increases the weight of potato. But production decreases per acre. Therefore, the distance between plants and queues should be such that there is neither a decrease in yield nor a decrease in the weight of potatoes. For an average seed, the distance of the rows should be 50 cm and the spacing of the plants 20 - 25 cm.

How to do seed treatment before planting potatoes ?

Termite, ogra, fungus and ground, it is considered right to treat seeds to avoid disease caused by disease. This prevents potato rot in the field. And the germination capacity of the tuber increases.

Weeding and soil plating

After weeding the plant for 25 to 30 days, weeding should be done in rows and weed should be cleaned and the soil should be brittle. After weeding, weeding should be done by sprinkling half the amount of Nitrogen fertilizer at a distance of 50 cm from the root.

The root and tuber of potato should not be visible in any condition because the exposed potato tubers become green in contact with light and are not edible. In the middle, the open tubers should be covered with soil. If you want to control the weeds with pesticides, then you can spray pendamethylene 30% 3.5 liters in 900 to 1000 liters of water and sprayed for 2 days per hectare of sowing. Which will not have weed congestion.

Irrigation management

The first irrigation in potato should be done after one week of sowing the potato and after that it should be irrigated at an interval of every 8 to 10 days. Irrigation should be stopped two weeks before potato digging. It should be kept in mind that in every irrigation, water should be given only for half the ridge.

 

आलू

  • वैज्ञानिक नाम - सोलनम ट्यूबरोसम एल.
  • गुणसूत्र संख्या- 2n=48
  • फैमिली - सोलानेसी
  • उत्पत्ति- पेरू

महत्व :-

आलू की उत्पत्ति दक्षिण अमेरिका को माना जाता है, लेकिन भारतवर्ष में आलू प्रथम बार सत्रहवीं शताब्दी में यूरोप से आया। चावल, गेहूँ, गन्ना के बाद क्षेत्रफल में आलू का चौथा स्थान है। आलू एक ऐसी फसल है जिससे प्रति इकाई क्षेत्रफल में अन्य फसलों (गेहूँए धान एवं मूँगफली) की अपेक्षा अधिक उत्पादन मिलता है तथा प्रति हेक्टर आय भी अधिक मिलती है। आलू में मुख्य रूप से 80.82 प्रतिशत पानी होता है और 14 प्रतिशत स्टार्च, 2 प्रतिशत चीनी, 2 प्रतिशत प्रोटीन तथा 1 प्रतिशत खनिज लवण होते हैं। वसा 0.1 प्रतिशत तथा थोड़ी मात्रा में विटामिन्स भी होते हैं।

 जलवायु

आलू समशीतोष्ण जलवायु की फसल है। उत्तर प्रदेश में इसकी खेती उपोष्णीय जलवायु की दशाओं में रबी के मौसम में की जाती है। सामान्य रूप से अच्छी खेती के लिए फसल अवधि के दौरान दिन का तापमान 25.30 डिग्री सेल्सियस तथा रात्रि का तापमान 4.15 डिग्री सैल्सियस होना चाहिए। फसल में कन्द बनते समय लगभग 18.20 डिग्री सेल्सियस तापकम सर्वोत्तम होता है। कन्द बनने के पहले कुछ अधिक तापक्रम रहने पर फसल की वानस्पतिक वृद्धि अच्छी होती है, लेकिन कन्द बनने के समय अधिक तापक्रम होने पर कन्द बनना रूक जाता है। लगभग 30 डिग्री सैल्सियस से अधिक तापक्रम होने पर आलू की फसल में कन्द बनना बिलकुल बन्द हो जाता है।

भूमि एवं भूमि प्रबन्ध

आलू की फसल विभिन्न प्रकार की भूमि, जिसका पी.एच.  मान 6 से 8 के मध्य हो, उगाई जा सकती है, लेकिन बलुई दोमट तथा दोमट उचित जल निकास की भूमि उपयुक्त होती है। 3.4 जुताई डिस्क हैरो या कल्टीवेटर से करें। प्रत्येक जुताई के बाद पाटा लगाने से ढेले टूट जाते हैं तथा नमी सुरक्षित रहती है। वर्तमान में रोटावेटर से भी खेत की तैयारी शीघ्र व अच्छी हो जाती है। आलू की अच्छी फसल के लिए बोने से पहले पलेवा करना चाहिए।

बुआई का समय 

आलू तापक्रम के प्रति सचेतन प्रकृति वाला होता है। 25 से 30 डिग्री सेंटीग्रेड दिन का तापमान आलू की वानस्पतिक वृद्धि और 15.20 डिग्री सेंटीग्रेड आलू कन्दों की बढ़वार के लिए उपयुक्त होता है। सामान्यतः अगेती फसल की बुआई मध्य सितम्बर से अक्टूबर के प्रथम सप्ताह तक, मुख्य फसल की बुआई मध्य अक्टूबर के बाद हो जानी चाहिए

 

आलू की किस्मे  उत्पादन  में लगने वाला समय  उत्पादन प्रति हेक्टेर  अन्य जानकारियां
कुफरी चन्द्र मुखी  80 - 90 दिन में तैयार  200 - 250  क्विन्टल  
कुफरी अलंकार    70 दिन में तैयार  200 - 250  क्विन्टल  
कुफरी नवताल G2524  75 - 80  दिनों में तैयार  200 - 250  क्विन्टल   
कुफरी बहार 3792 E 90 -110  दिनों में तैयार  200 - 250  क्विन्टल   गर्मियों में 100 से 135 दिनों में
कुफरी ज्योति 80 - 120 दिन तैयार   150 -250  क्विन्टल   
कुफरी शीत मान 100 -130 दिन में तैयार   250  क्विन्टल  
कुफरी देवा 120 -125 दिन में तैयार 300 - 400 क्विन्टल    
कुफरी सिंदूरी     120 - 140 दिन में तैयार     300 -400  क्विन्टल  
कुफरी बादशाह    100 -120 दिन में तैयार 250 - 275  क्विन्टल  
कुफरी लवकर   100 - 120 दिन में तैयार    300 - 400  क्विन्टल   
कुफरी लालिमा  90 - 100 दिन में तैयार  300  क्विन्टल  इसमें अगेती झुलसा के लिए मध्यम अवरोधी है और कंद गोल और छिलका गुलाबी रंग का होता है
कुफरी स्वर्ण   100 - 110  दिन में तैयार   300  क्विन्टल      

  संकर किस्मे के आलू के बीज की जानकारियाँ

आलू की किस्मे उत्पादन  में लगने वाला समय  उत्पादन प्रति हेक्टेर अन्य जानकारियां
कुफरी जवाहर JH 222  90 -110  दिनों में तैयार  250 - 300 क्विन्टल  
JF 5106   75 दिनों में तैयार  23 -28 टन उत्तर भारत के मैदानी क्षेत्रो में उगाने के लिए
E 4,486  135 दिनों की फ़सल    250 - 300 क्विन्टल  हरियांणा ,उत्तरप्रदेश, बिहार, पश्चिम बंगाल ,गुजरात और मध्य प्रदेश में उगाने के लिए उपयोगी
कुफरी अशोक P 376 J  75 दिनों की फ़सल 23 - 28 टन  
कुफरी संतुलज J 5857 I 75 दिनों की फ़सल  23 - 28 टन    
JEX -166 C 90 दिन में तैयार    30 टन   

आलू के बीजो के प्रकार एवं चयन के सही तरीके

फसल लगाने के लिए किसान भाइयो को किस प्रकार के आलू के बीजो का चुनाव करना चाहिए | ये एक प्रमुख विषय है क्योंकि आलू के बीज का आकार का प्रभाव फसल के उत्पादन पर भी पड़ता है |  यदि बड़े आकार वाले बीजो का चयन करे तो पैदावार तो ज्यादा होगी लेकिन इससे हमे बीज की लागत ज्यादा हो जाता है और बीज की कीमत ज्यादा होने पर प्रयाप्त मुनाफा नहीं हो पता | वही कम आकार वाले बीजो का चयन करने पर बीज में लगने वाला लागत तो कम होगा लेकिन इससे रोगाणुयुक्त आलू पैदा होने का खतरा बना रहता है| आमतौर पर देखा गया है की कम आकार वाले बीजो के फसल ज्यादा रोग लगता है|
 

आलू बुआई की विधि

1.    जमीन से 15.20 से. मी. ऊँची मेड़ें बना ले जिसकी दूरी 45.60 से. मी.होनी चाहिए| उसके बाद दोनों तरफ या बिच में 15.20 से. मी. दुरी पर और आलू 7.8 से. मी. गहराई पर खुरपी की सहायता से लगा दे।
2.   आलू के खेत में उथली नालिया बनाकर जिसकी गहराई 5 - 7 से. मी. हो, उनमे 20.20 से. मी. दुरी पर आलू बीज रखकर दो कतारों के बिच हल चलाकर आलू को दबा देते हैं  या फिर नालिया बनाए बिना ही आलू को 5 - 7 से. मी. गहरा बोकर मेड बना देते हैं।
3.  पहाड़ी क्षेत्रों में आलू की बुवाई 4 मीटर चौड़ी छोटी क्यारियों में लाइने जिसकी दुरी 45 - 60 से. मी. बनाकर करनी चाहिए| और ढलान 8 -10% से ज्यादा नहीं होना चाहिए। लाइनों में आलू बीज को रखकर मिट्टी में दबा देना चाहिए, और उन पर फावड़े की मदद से लगभग 3- 4 इंच या 8 - 10 से. मी. मिट्टी चढ़ा देना चाहिए।
4.  आलू के पौधों की दुरी कम रखने पर पौधों को रौशनी ,पानी और पोषक तत्वों के लिए प्रयाप्त जगह नहीं मिलती जिसके कारण छोटे आकर के आलू पैदा होते है | और अधिक दुरी रखने पर पौधों की संख्या कम हो जाती है जिससे आलू का वजन तो बड़ जाता है | लेकिन प्रति एकड़ के हिसाब से उत्पादन कम हो जाती है| इसलिए पौधों और कतारों की दुरी ऐसी होनी चाहिए जिससे न तो उपज में कमी हो और न ही आलू के वजन में कमी हो | औसतन बीज के लिए कतारो की दुरी 50 से. मी. और पौधों की दुरी 20 - 25 से. मी.  का अन्तराल होना चाहिए|

आलू लगाने से पहले किस प्रकार से बीजोपचार करना चाहिए ?

दीमक, ओगरा ,फंफूद एवं जमीन ,जनित बीमारी से बचने के लिए बीज उपचारित करना सही मन जाता है  | इससे खेत में आलू की सड़न रुक जाता है| और कंद की अंकुरण क्षमता बढ़ जाता है |

निराई-गुड़ाई और मिट्टी चढ़ाना

पौधे जब 25 से 30 दिनों के हो जाये तो पंक्तियों में निराई-गुड़ाई करके खरपतवार  को साफ कर देना चाहिये और मिट्टी को भुरभूरा कर देना चाहिये| निराई-गुड़ाई के बाद में नाईट्रोजन खाद की आधी मात्रा जड़ से 50 सेंटीमीटर की दूरी पर छिड़क कर मिट्टी चढ़ा देनी चाहिये| आलू के जड़ और कंद किसी भी अवस्था में दिखाई न दें क्योंकि खुला आलू कंद प्रकाश के सम्पर्क में हरे हो जाते हैं और खाने योग्य नहीं रहते| बीच.बीच में खुले आलु कंदों को मिट्टी से ढकते रहना चाहिये| यदि आप खरपतवार पर कीटनाशक से नियंत्रण चाहते है तो पेंडामेथलिन 30 प्रतिशत 3.5 लिटर का 900 से 1000 लिटर पानी में घोल बनाकर बुवाई के 2 दिन तक प्रति हेक्टेयर छिड़काव कर सकते है| जिसे खरपतवार का जमाव ही नही होगा|

सिंचाई प्रबंधन

आलू में पहली सिंचाई आलू बोआई के एक सप्ताह बाद करनी चाहिये और उसके बाद प्रत्येक 8 से 10 दिनों के अंतराल पर सिंचाई करते रहना चाहिये| आलू खुदाई के दो सप्ताह पहले सिंचाई बंद कर देनी चाहिये| ध्यान यह रखा जाना चाहिये, कि प्रत्येक सिंचाई में पानी आधी मेड़ तक ही देना चाहिये|


My Cart (0 product)
khetimitra
No products in your cart